Best Independence Day Poems in Hindi | 15 अगस्त पर कविता

स्वतंत्रता दिवस पर कविता

Independence day poems




स्वतंत्रता दिवस पर कविता हम सभी को पसंद है और इसे सुनने में हम सभी को बहुत ही गर्व महसूस होता है। स्वतंत्रता दिवस हम सभी भाई-बहनों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है जिसे हम कभी नहीं भुला सकते हैं हमें अपने देश और देशवासियों पर गर्व होना चाहिए जो इस देश को ऊंचाइयों तक ले जाने का निश्चय बनाए हुए हैं। हमारे देश में बहुत ही बड़े कवि और लेखक रह चुके हैं उनकी कविता सुनकर आप सभी को बहुत ही आनंद आएगा। बहुत सारे स्वतंत्रता दिवस पर कविता इतने सालों में अलग अलग राज्य अलग-अलग तरीकों से गए हैं, उन सभी कविताओं में से जो कविता हमारे 15 अगस्त से तात्पर्य रखती है सभी कविताओं का हम यहां पर वार्तालाप करेंगे। 15 अगस्त 1947 का दिन एक बहुत ही महत्वपूर्ण दिन था क्योंकि उस दिन हमारे देश को आजादी मिली थी, जो आज भी हर साल बहुत ही उत्साह पूर्वक मनाई जाती है। 15 अगस्त के लिए कविता हम सभी को लिखना चाहिए और आपस में मिलजुल कर सुनना चाहिए क्योंकि यह कविताएं हमें अपने अतीत के बारे में बहुत कुछ इंडिया जिन्हें सुनकर शायद हर एक भारतवासी के आंखों में आंसू आ जाए।
बच्चा-बच्चा बन जाए सैनिक,गर बुरी नजर दुश्मन डाले
हस्ती उसकी मिलाएं खाक में, करे कभी जो हमला वे
भाईचारा रखें परस्पर, अमन चैन का नारा हो
सद्भावना, शांति रखें दिलों में, जाति, धर्म का न बंटवारा…
बनें पहिए प्रगति के रथ के,सबसे आगे बढ़ते जाएं
कर दें रौशन नाम जहां में, देश का अपने मान बढ़ाएं
आजादी की वर्षगांठ की ,छटा निराली बढ़ती जाए 
खुशहाली के फूल हों बिखरे,खुश्बू से चमन महकाएं
आओ आज़ादी दिवस मनाएं 
आओ आज़ादी दिवस मनाएं   

Beautiful 15 August Independence Day Poems in Hindi

15 अगस्त पर कविता

Also Checkout Independence Day Messages in Hindi :- 15 अगस्त मैसेज


स्वतंत्रता दिवस
सन ‘५६ में जन्मी
आज की युवा पीढी
पराधीनताओं की कुंठाओं
तथा सभी वास्तविकताओं से
अनभिज्ञ ही है
हमारी विचार धाराएं
एवं स्मृतियाँ
स्वतंत्रता को केवल
ध्वजारोहण के सन्दर्भ में ले सकीं हैं
अथवा
इससे अधिक
देशभक्ति भावनाओं से
ओत-प्रोत कुछ क्षण
जो समय के साथ साथ
या उस से कहीं पहले
अपना अस्तित्व
खो देते हैं -और
जिसके साथ ही समाप्त
हो जाता है –
सद्भावनाओं से प्रेरित
एक ज्वार
ज्वार जिसे कभी
चन्द्र रूपी देश प्रेम की
सौम्यता ने जन्मा था
सागर की
फेनिल लहरों में खोकर
अपने जन्म दाता के
अस्तित्व को नकार रहा है
सोचता हूँ –
हमारा प्रेम ,
हमारी भावनाएं ,
इतनी क्षणिक क्यों हैं ?
देश प्रेम -हमारी और आपकी वह उपलब्धि है
जिस की सुरक्षा
हमारी सजग चेतना का
प्रतीक है
हमें सजग रहना होगा
तभी हम विरासत के इस ऋण से मुक्त रह सकेंगे
इस महान
स्वतंत्र युग का श्रेय
हमारे गौरवपूर्ण इतिहास एवं
इसमें जीवंत प्रत्येक कर्मठ मानव को है
जो इस भावना के प्रति
सदैव क्रियाशील रहा.
-कमलप्रीत सिंह
15 अगस्त 1947 का दिन
अभी-अभी बम के धमाको़ से
चीख़ उठा है शहर
बच्चे, बूढे,जवान
खून से लथपथ
अनगिनत लाशों का ढेर
इस हृदय विदारक वारदात की
कहानी कह रहा है
ओह!
यह कैसी आजा़दी है
जो घोल रही है
मेरे और तुम्हारे बीच
खौ़फ, आग और विष का धुआँ?
हमारे होठों पे थिरकती हंसी को
समेटकर
दुबक गई है
किसी देशद्रोही की जेब में
और हम
चुपचाप देख रहे हैं
अपने सपनों को
अपने महलों को
अपनी आकांक्षाओं को
बारूद में जलकर
राख़ में बदलते हुए.

15 अगस्त के लिए कविता
हमको प्यारा है भारत, हमारा वतन
सारी दुनियां का सबसे सुहाना चमन।
हम है पंछी, ये गुलषन यहॉ बैठ मन
चैन पाता, सजाता नये नित सपन ।।

इसकी माटी में खुषबू है, एक आब है
जैसा कष्मीर दो-आब, पंजाब है।
सारी धरती उगलती है सोना रतन
सब भरे खेत-खलिहान, मैदान वन।।

आदमी में मोहब्बल है, इन्साफ है
खुली बातें है, जजबा है, दिल साफ है।
मन हिमालय से ऊंचा, जो छूता गगन
चाहते दिल से सब अंजुमन में अमन।।

पंछियों की भले हों कई टोलियॉं
रूप रंग मिलते-जुलते है औं बोलियॉं
फितरतों में फरक फिर भी है एक मन
सबको प्यारा है खुद से भी ज्यादा चमन।।

क्यारियॉं भी यहॉं है कई रंग की
जिनमें किसमें है फूलों के हर रंग की
एकता ममता समता की ले पर चलन
सबमें बहता मलय का सुगंधित पवन।।

इसकी तहजीब का कोई सानी नहीं
जो पुरानी है फिर भी पुरानी नहीं
मुबारिक यहॉं का ईद-होली मिलन
इसकी शोभा यही है ये गंगोजमन।।



स्वतंत्रता दिवस पर बहुत ही बड़े-बड़े लोगों कविता लिखा है, जो हम अपने बचपन से सुनते आ रहे हैं। 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर कविता लिखना एक बहुत ही बड़ी बात है। इस कविता में आप आजादी और भारत की स्वतंत्रता के बारे में लिख सकते हैं और दूसरों को सुना भी सकते हैं। बहुत सारे स्कूलों में बच्चों को आजादी पर कविता लिखने को दिया जाता है तो वह इस स्वतंत्रता दिवस के बारे में लिखना नहीं भूलते हैं। स्वतंत्रता दिवस पर बाल कविता एक बहुत ही महत्वपूर्ण अवसर है जिसमें हम सभी बच्चे स्वतंत्रता दिवस पर लेख लिखते हैं, साथ ही साथ स्वतंत्रता दिवस के नारे भी लगाते हैं। हम सभी को एक साथ मिलकर स्वतंत्रता दिवस के बारे में बहुत सारी अच्छी अच्छी बातें करनी चाहिए और हमारे देश के बारे में अधिक से अधिक जानने की कोशिश करना चाहिए। हम सभी को राष्ट्रभक्त होना पड़ेगा तभी हमारे देश का कुछ कल्याण हो सकता है स्वतंत्रता दिवस के दिन हर गली चौराहे में हमारा तिरंगा लहराया जाता है। हमें इस अवसर पर स्वतंत्रता दिवस के लिए कविता और भाषण का बंदोबस्त करना चाहिए ताकि हम सभी को एक अच्छी कविता सुना सके जो कि हमारे देश और संस्कृति से जुड़ा हो।

Best Independence Day Poems in Hindi | 15 अगस्त पर कविता

INDEPENDENCE DAY SPEECHS FOR STUDENTS AND TEACHERS

INDEPENDENCE DAY BEST IMAGES FOR WHATSAPP

         

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.